शनिवार, 20 जून 2009

मेरा दर्द : कहाँ है फुटपाथ


डॉ. महेश परिमल
एक बड़े शहर का छोटा-सा नागरिक हूँ मैं। पहले यही शहर अपने बचपन में मेरे बचपन के साथ खेलता था, फुदकता था। हम साथ-साथ बड़े हुए। अचानक शहर ने कुलाँचे मारना शुरू किया। मैं जीवन की जद्दोजहद में फँस गया। शहर फैलता गया, मैं सिमटता गया। शहर का दायरा दस-बीस नहीं तीस किलोमीटर हो गया। मैं दो कमरों के फ्लैट में सिमटता गया। मैं नागरिक बना रहा और शहर 'मेट्रोपोलिटन सिटीÓ बन गया।
आज मैं शहर में अपने चलने लायक जगह ढूँढ रहा हूँ। कहते हैं, शहर में पैदल चलने वालों के लिए फुटपाथ होते हैं, पर मेरे शहर में तो कहीं नहीं दिखता फुटपाथ। कहाँ है फुटपाथ? लोग जिसे फुटपाथ कहते हैं, वहाँ तो दुकानें लगी हैं। मैं आगे कैसे बढूँ? क्या मैं इस शहर में पैदल भी नहीं चल सकता? मैं नागरिक हूँ, वरिष्ठ नागरिक हूँ। सरकार के तमाम करों की अदायगी करता हूँ। तब फिर मुझे मेरे शहर में पैदल चलने का अधिकार क्यों नहीं है?
सुना है, शहर जब बड़ा होने लगता है, तब उससे भी बड़े अधिकारी आने लगते हैं। वे शहर के भविष्य पर चिंता करते हैं, योजना बनाते हैं ताकि बड़े होते शहर के नागरिकों को कोई तकलीफ न हो। बड़ी-बड़ी योजना बनाते हैं, नागरिकों की आँखों में सपना डाल देते हैं। शहर में अब ऐसा होगा, शहर में अब ऐसा होगा। कुछ वर्ष बाद सपने तो बूढ़े हो जाते हैं, पर शहर के सीने में ऊग आती हैं बड़ी-बड़ी गगनचुम्बी इमारतें। कई आवासीय कॉलोनियाँ, बड़े-बड़े कार्यालय और बड़ी-बड़ी दुकानें। शहर कांक्रीट का जंगल बनकर रह जाता है। लोगों का जीना मुहाल हो जाता है।
तब हो जाता है शहर अलमस्त। दिन भर जागता है, पर रात को सोता नहीं, आराम नहीं करता। रात को उसकी रफ्तार और तेज हो जाती है। तब भी फुटपाथ खाली नहीं मिलता। फुटपाथ तब शरणस्थली हो जाता है- गरीब, बेसहारा लोगों का। उनको फाँदकर तो जा नहीं सकता। इतनी मानवता तो शेष है मुझमें। फिर भी मैं अपने इस शहर में चलने के लिए फुटपाथ की तलाश में हूँ। आप मेरी मदद करेंगे? कहाँ है फुटपाथ इस शहर में? या फिर मुझे ऐसी जगह बता दें, जहाँ मैं कुछ पल सुकून के गुजार सकूँ, जहाँ न शोर हो, न वायु प्रदूषण और न ही हो सांस्कृतिक प्रदूषण। आप बता सकते हैं ऐसी जगह कहाँ है, इस शहर में?
मुझे लगता है आप मेरी कोई सहायता नहीं कर पाएँगे क्योंकि आप भी इस शहर का एक हिस्सा हैं। अगर आप इस शहर का हिस्सा नहीं बन पाए हैं, तो फिर आप इस शहर के बारे में अच्छा कैसे सोच सकते हैं? जब आप इस शहर को अपने भीतर महसूस करेंगे, तभी इसे समझ पाएँगे। मेरे बहुत से हमउम्र साथी हैं, जो इस शहर को अपने भीतर महसूस करते हैं, हमने तय किया है कि हम इस शहर में फुटपाथों को फिर से आबाद करेंगे, इसे पैदल चलने वालों के लिए सुरक्षित करेंगे। हमें चाहिए आपका नैतिक समर्थन, आप देंगे ना?
डॉ. महेश परिमल

1 टिप्पणी:

  1. जरुर देंगे जी --और इस कार्य के लिए साधुवाद भी.

    उत्तर देंहटाएं

Post Labels