सोमवार, 29 फ़रवरी 2016

हरिवंश राय 'बच्चन' की कविताऍं -

हरिवंश राय बच्चन का जन्म 27 नवम्बर 1907 को इलाहाबाद से सटे प्रतापगढ़ जिले के एक छोटे से गाँव बाबूपट्टी में एक कायस्थ परिवार मे हुआ था। इनके पिता का नाम प्रताप नारायण श्रीवास्तव तथा माता का नाम सरस्वती देवी था। इनको बाल्यकाल में 'बच्चन' कहा जाता था जिसका शाब्दिक अर्थ 'बच्चा' या संतान होता है। बाद में ये इसी नाम से मशहूर हुए। इन्होंने कायस्थ पाठशाला में पहले उर्दू की शिक्षा ली जो उस समय कानून की डिग्री के लिए पहला कदम माना जाता था। उन्होने प्रयाग विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में एम. ए. और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य के विख्यात कवि डब्लू बी यीट्स की कविताओं पर शोध कर पी-एच.डी. पूरी की। प्रस्तुत है उनकी कुछ कविताऍं -

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2016

बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

रामधारी सिंह 'दिनकर' - कृष्ण की चेतावनी

रामधारी सिंह 'दिनकर' (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं।'दिनकर' स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गए। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। यहॉं प्रस्तुत है उनकी वीर रस से भरी हुई ओजपूर्ण कविता- कृष्ण की चेतावनी

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2016

मासूम मुस्कान की मलिका - मधुबाला

मधुबाला का अभिनय, प्रतिभा, व्यक्तित्व और खूबसूरती देख कर यही कहा जाता है कि वह भारतीय सिनेमा की अब तक की सबसे महान अभिनेत्री है। वास्तव मे हिन्दी फ़िल्मों के समीक्षक मधुबाला के अभिनय काल को स्वर्ण युग की संज्ञा से सम्मानित करते हैं। आज उनकी पुण्यतिथि पर हम दे रहे हैं उन्हें भावनाओं की विनम्र श्रद्धांजलि।

रविवार, 21 फ़रवरी 2016

कहाँ गया छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का स्वाद?

नवभारत रायपुर के अवकाश अंक में प्रकाशित मेरा आलेख


कहाँ गया छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का स्वाद?
डॉ. महेश परिमल
पूरे 12 दिनों के छत्तीसगढ़ दौर से भोपाल लौटने पर बच्चों ने पूछा-पापा, हमारे लिए क्या लाए? मेरे नकारात्मक उत्तर से बच्चे उदास हो गए। उनका उदास होना स्वाभाविक ही था।  इसके पहले जब कहीं बाहर जाना होता, तो वहां के व्यंजनों के कुछ आइटम लेते आता। पर इस बार छत्तीसगढ़ से कुछ न लाने पर यह प्रश्न कौंधने लगा कि क्या छत्तीसगढ़ के लोग किसी तरह का व्यंजन नहीं बनाते? कहां तो गुजरात का ढोकला, फाफड़ा, खाखरा पूरे देश में लोकप्रिय है, दक्षिण भारत के इडली, सांभर, डोसा उत्तपम आज पूरे भारत ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी मिल रहे हैं। पंजाब के छोले-भटूरे और कुलचे देश के कोने-कोने में मिल रहे हैं। महाराष्ट्र की भाखर-बड़ी भी कहीं न कहीं मिल जाएगी। यही नहीं विदेशों के कई व्यंजन भी आज हमारे देश के गांव-गांव में मिल रहे हैं, तो फिर ऐसी कौन-सी बात है कि छत्तीसगढ़ के व्यंजन छत्तीसगढ़ की राजधानी में ही उपलब्ध नहीं हैं।
छत्तीसगढ़ का मूल निवासी होने के कारण छत्तीसगढ़ी व्यंजनों की लज्जत से पूर्णत: वाकिफ हूं। तेज गर्मी में यदि सुबह बासी मिल जाए, तो दिन भर की तरावट का अहसास होता है, इसे वे ही जानते हैं, जिन्होंने बासी का स्वाद लिया है। ये तो खैर रोजमर्रा का भोजन है। इसके अलावा त्योहारों में बनने वाले व्यंजनों की लम्बी शृंखला है, जो गाहै-बगाहे खाने को मिल जाती है। मेरा मानना है कि यदि बाहर का कोई भी व्यक्ति छत्तीसगढ़ में किसी के घर यदि दाल-भात, रोटी के साथ मुनगा-आलू और बड़ी की सब्जी खा ले, तो उस स्वाद को वह जिंदगी भर नहीं भूल सकता। शादी के दौरान बनने वाले व्यंजनों में कई ऐसे हैं, जिनका स्वाद ताउम्र बना रहता है। कड़ी लाड़ू के स्वाद का कहना ही क्या? इसके अलावा ठेठरी, खुरमी, अरसा रोटी, डूबकी कढ़ी, चीला, फरहा, चौसेला, गुलगुला,लाई-बरी, बिजौरी,तीखूर, सिंघाड़ा, करोली जैसे कई व्यंजन हैं, जिनके जायके को ग्रहण करने के लिए जीभ आज भी मचलती है। मेरा दावा है कि इन व्यंजनों के नाम पढ़ते हुए भी छत्तीसगढ़ियों के मुंह में पानी आ गया होगा।
दु:ख इस बात का है कि छत्तीसगढ़ के इन व्यंजनों का स्वाद अन्य प्रांतों के लोगों को चखाने के लिए राज्य सरकार ने ऐसा कोई उपाय नहीं किया। हां, छत्तीसगढ़ पर केंद्रित मेलों जगार आदि में इन व्यंजनों का स्वाद चखने को मिल जाता है। पर शहर में बिखरे तमाम फास्ट फूड जोन में इस तरह के आइटम देखने को नहीं मिलते। छत्तीसगढ़ की शालीन परंपराओं को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए सरकार इतने अधिक प्रयास कर रही है, पर व्यंजनों की उपलब्धता पर आज तक कोई ठोस प्रयास किए गए हों, ऐसा नहीं लगता। ऐसा भी नहीं है कि रायपुर-बिलासपुर में छत्तीसगढ़ व्यंजनों का स्वाद चखने के लिए कोई व्यवस्था ही नहीं की गई है। पता लगाने पर रायुपर-बिलासपुर में इक्का-दुक्का दुकानों का पता चला। पर छत्तीसगढ़ में बाहर से आए लोगों के लिए यह नाकाफी है। सरकार को सोचना चाहिए कि जब यहां कोई परप्रांतीय आकर अपने साथ वहां के व्यंजनों की व्यवस्था कर लेता है, तो छत्तीसगढ़ में वहाँ के व्यंजनों की बिक्री के लिए कोई उपाय क्यों नहीं किए जा सकते?
यह सच है कि आज की पीढ़ी व्यंजनों की इस शालीन परंपराओं को सहेजकर रखना नहीं जानती। पर उन्हें इसके लिए प्रेरित तो करना ही होगा। आज वहां के कुछ मूल निवासी भी छत्तीसगढ़ी में बात करना अपनी तौहीन समझते हैं। अपनी इस भाषा का वे स्वयं ही आदर नहीं कर पा रहे हैं। वहाँ भी हिंदी मिश्रित अंग्रेजी हावी हो गई है। मीडिया भी इस परंपरा का निर्वाह कर रहा है। भाषा को सहेजने और उसे समझाने के कुछ प्रयास अखबारों में भी दिखाई देते हैं, पर व्यंजनों के संरक्षण के लिए क्या हो रहा है, यह बताने वाला कोई नहीं है। राजधानी रायपुर में रेल्वे स्टेशन से लेकर सुदूर मोतीनगर, शंकर नगर, मठपुरैना आदि स्थानों पर दिल्ली से आने वाले तमाम कथित भारतीय व्यंजनों का स्वाद चखाने वाले आइटम मिल जाएंगे, पर कहीं भी छत्तीसगढ़ी व्यंजन के दर्शन नहीं हुए। इसे आखिर क्या कहा जाए, विरासत का अंत या विरासत का पतन। आज की पीढ़ी छत्तीसगढ़ के व्यंजनों का नाम भी नहीं जानती होगी। क्योंकि इन्हें बचपन से ही इस तरह के व्यंजन मिले ही नहीं, वह भी फास्ट फूड खा-खाकर बड़ी हो रही है, तो फिर उसने यह अपेक्षा रखना बेकार है कि वह इन व्यंजनों का स्वाद सुदूर प्रांतों तक फैलाने के काम में अपना हाथ बँटाएगी।
आज सरकार छत्तीसगढ़  विकास के बारे में सोच रही है, यह अच्छी बात है। विकास हो भी रहा है। भले ही यह विकास भ्रष्टाचार के गटर से होकर आ रहा है, पर जो हो रहा है, वह दिखाई भी दे रहा है। सरकार क्या ऐसा नहीं कर सकती कि सुबह के नाश्ते में बनने वाला व्यंजन चीला-चटनी का स्वाद हर किसी को मिल सके, इसके लिए चौराहों पर इसके स्टाल लगाने के लिए वहीं के लोगों को प्रेरित करे। ठेठरी-खुरमी जैसे व्यंजन तो सूखे होते हैं, इन्हें भी रखा ही जा सकता है। इसके अलावा कई आइटम ऐसे भी हैं, जो खराब भी नहीं होते और उनका स्वाद भी बना रहता है। मेरा यह लिखने का उद्देश्य केवल इतना ही है कि बाहरी लोग भी छत्तीसगढ़ के व्यंजनों का स्वाद लें और जब अपने घर जाएं, तो यहां के आइटम ले जाएं, ताकि उनके बच्चे भी इस तरह के व्यंजनों का स्वाद ले सकें। उन्हें छत्तीसगढ़ के व्यंजनों के नाम पर बच्चों से झूठ न बोलना पड़े। इसे लघु उद्योग की तरह भी व्यवस्थित किया जा सकता है। फाइव स्टार में ऐसी चीजें मिलने से रही, इसकी शुरुआत गुमटियों से ही होगी। इसे बढ़ावा दिया जाना चाहिए।
बचपन में इन व्यंजनों का स्वाद जो लगा है, उसे आज भी नहीं भुला हूं। वहां जाकर मेरी फरमाइश ही होती है कि छत्तीसगढ़ के कुछ व्यंजनों का स्वाद एक बार फिर ग्रहण कर सकूं। वहां के स्वाद की बात ही निराली है। दोपहर में नहाने के तुरंत बाद भोजन करना एक आल्हादकारी अनुभव है। तेज भूख होने पर वहां के मसालों एवं घर की मां-बहनों द्वारा आग्रह-पूर्वक परोसा जाना और फिर उस साधारण से भोजन का स्वाद ही न भूलने वाला होता है। आज गांव में यह परंपरा जारी होगी, पर शहर की भागम-भाग में वह शालीन परंपरा लुप्तप्राय है। अब तो शादी के दौरान भी इस तरह के व्यंजन लुप्त होने लगे हैं। छत्तीसगढ़ जाकर जब इन हालात का सामना करना होता है, तो दु:ख होना स्वाभाविक है। पर क्या किया जा सकता है? मेरा आग्रह यही है कि इसकी शुरुआत छत्तीसगढ़वासियों से ही होनी चाहिए। वे इस दिशा में एक कदम आगे बढ़ेंगे, तो सरकार आगे आकर दस कदम आगे खींच लेगी। आवश्यकता है केवल एक कदम बढ़ाने की…….।
डॉ. महेश परिमल

रविवार, 14 फ़रवरी 2016

जेएनयू की साख पर आँच




                                                   आज हरिभूमि में प्रकाशित मेरा आलेख


                                                 राजनांदगांव से प्रकाशित सबेरा संकेत में मेरा आलेख

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

वेलेंटाइन डे पर विशेष - भारती परिमल

मोहब्बत अब 'लव' में बदल गई है। और 'लव' की लाइफ इतनी 'फास्ट' हो गई है कि इसमें जज्बातों के लिए समय ही नहीं है। मैं हैरान हूँ कि सभी प्रेमी केवल एक दिवस को ही प्रेम के लिए समर्पित करते हैं। सुबह से शुरू हुआ 'लव' शाम होते-होते खत्म हो जाता है और सुर्ख गुलाब सड़कों की शोभा बन जाते हैं। आखिर प्रेम के लिए एक दिवस ही क्यों? आइए जानते हैं, मोहब्बत खुद क्या कहती है इसके बारे में...

शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

वो जी उठा, हम बचा नहीं पाए

सियाचीन की बर्फीली वादियों में पूरे 6 दिन तक 35 फीट बर्फ के नीचे दबे रहे हनुमनथप्पा ने मौत को अपने पास तक नहीं आने दिया, लेकिन बाहर निकाले जाने के बाद ये बहादुर इलाज के दौरान जिंदगी की लड़ाई हार गया। हम उसे बचाने में नाकाम रहे। 11 फरवरी 2016 को डाॅक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कवि हर‍ि ओम पवार ने श्रद्धांजलि स्वरूप जो कविता लिखी है, वह यहॉं प्रस्तुत है -

गुरुवार, 11 फ़रवरी 2016

वसंत, वसंत कहॉं हो तुम - डाॅ. महेश परिमल

अभी-अभी ठंड ने गरमी का चुंबन लिया है... समझ गया वसंत आनेवाला है। पर कहॉं है ? कहॉं खो गया है ? सीमेंट और कांक्रीट के जंगल में प्रकृति भी रंग बदलने लगी है। ऐसे में कहॉं खोजें हम अपने प्यारे वसंत को ? क्या सचमुच खो गया है या कहीं दुबक गया है हमारा वसंत ? आइए तलाशते हैं हम अपने वसंत को...

यादों का वसंत - डॉ. महेश परिमल

यादों का वसंत पूरे उमंग और उत्साह के साथ आपके हृदय के द्वार पर आकर खड़ा है। स्वागत कीजिए इस वसंत का...ये जीवन को नई ऊर्जा देता है। यादों और कल्पनाओं में इतनी ताकत होती है कि ये पल भर के लिए हथेलियों की रेखाओं को भी बदल देती हैं। तो आइए, स्वागत करें यादों के वसंत का...

प्रसून जोशी की कविता

भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध गीतकार प्रसून जोशी का नाम हम सभी के लिए एक जाना-पहचाना नाम है। वे संवेदनशील लेखक, गीत और गज़लों के रचियताओं के रूप में अधिक जाने जाते हैं। सुपरहिट फ़िल्म ‘तारे ज़मीन पर’ के गाने ‘मां...’ के लिए उन्हें 'राष्ट्रीय पुरस्कार' भी मिल चुका है। इसके अलावा उनके दिए गए कई विज्ञापनों के शीर्षक लोगों की जबान पर है, जैसे - ‘ठण्डा मतलब कोका कोला’ एवं ‘बार्बर शॉप-ए जा बाल कटा ला’ जैसे प्रचलित विज्ञापनों के कारण उन्हें अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता मिली। आइए, सुनते हैं उनकी एक प्रेरक कविता...

मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

निदा फ़ाज़ली की कुछ नज्में

निदा फ़ाज़ली ने इस फ़ानी दुनिया को रूखसत कर दिया लेकिन उनकी याद हमारे दिलों में बनी रहेगी। अपनी नज्मों के साथ वे हमेशा हमारे बीच रहेंगे। निदा अगली पीढ़ी के शायर थे। उनके दिल में मीर, मीरा, तुलसी, रहीम, कबीर एक साथ धड़कते थे। उनकी लेखनी में जमीनी सोचवाले शब्द फूटते थे। शायरी ऐसी जिसे हर कोई समझ जाए। परंपरा में रहकर कलम चलाते थे। जिसमें दोहे, नज्म, ग़ज़ल सभी का समावेश है।

बुधवार, 3 फ़रवरी 2016

नाना-अक्षय को अवार्ड क्यों नहीं?





आज नवभारत रायपुर में प्रकाशित मेरा आलेख


19 जनवरी को नवभारत में प्रकाशित मेरा आलेख


पीपुल्स समाचार में प्रकाशित मेरा आलेख 

Post Labels