अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:24 pm
घर की पुरानी चीजों को निकालने का काम जारी था। बेटे को सभी चीजें बेकार लग रही थी। कबाड़ी भी खुश था कि उसे कई कीमती चीजें कम दामों में मिल रही थी। घर के स्टोर के बाद बारी आई घर की छत पर रखे गए सामान की। वहाँ बहुत-सी चीजों के साथ एक पुरानी साइकिल रखी हुर्इ् थी। जब बेटे ने कबाड़ी से साइकिल ले जाने के लिए कहा, तब इतने समय से खामोश होकर मूक दर्शक बनी माँ से नहीं रहा गया। वह बोल उठी- बेटा, इस साइकिल को मत बेचो। ये तुम्हारे स्वर्गीय पिता की अंतिम निशानी है। अमीर बेटे को एक कबाड़ी के सामने अपनी बेइज्जती महसूस हुई। वह झेंप गया और माँ को एक अलग कमरे में ले गया और उसे भला-बुरा कहने लगा। वह अपनी अमीरी की दुहाई दे रहा था और माँ अपने अतीत का मोह छोड़ नहीं पा रही थी। अतीत का मोह किसे नहीं होता ? हर किसी को अपना अतीत प्यारा होता है। हर कोई अपने अतीत के सुनहरे पलों को याद कर उनमें अपना वर्तमान खो देता है और कुछ पल अमूल्य बना लेता है। अतीत से जुड़ना बुरा नहीं है, पर उसे लाश के रूप में ढोते रहना बहुत बुरा है। अतीत का मोह तभी रखना चाहिए जब वह हमें भविष्य में वैसी ही गलती करने से रोक ले। अतीत से जुड़ी कुछ ऐसी ही अमूल्य बातों के बारे में सुनिए इस लेख के माध्यम से...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.