अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

7:00 pm
एक जादूगर ने घने जंगल में अपने जादू के बल पर सुंदर महल बनाया था। दिन में वह वेश बदलकर राजा के राज्य में घूमता और रात में अपने महल में आराम करता। उसे राज्य की जो भी वस्तु अच्छी लगती उसे अपनी उंगलियों के जादू से अपने वश में कर लेता और अपने महल में पहुँचा देता। प्रजा और राजा सभी अपनी वस्तुओं के गायब हो जाने के कारण बहुत दुखी और परेशान रहा करते थे। चोर को पकड़ने के लिए अलग-अलग उपाय किए गए लेकिन सारे बेकार गए। चोर पकड़ में ही न आता था। पलक झपकते ही वस्तु गायब हो जाती थी। राजा का हाथी, घोड़ा, गाय आदि जानवर भी एक-एक कर गायब होने लगे। तब ऐसा क्या हुआ कि जादूगर पकड़ा गया और सारी चीजें भी वापस मिल गई। इस चमत्कार को किसने किया और राजा ने उसे क्या ईनाम दिया, ये जानने के लिए सुनिए कहानी- जादूगर का महल...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.