अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:53 pm
माया ने जैसे ही अपने घर में प्रवेश किया, उसे चहचहाता हुआ घर बिलकुल शांत लगा। न तो स्वागत करने के लिए दीपा सामने आई और न ही बाबूजी दिखाई दिए और न ही माँ ने उसके हाथ से पर्स लिया। वह समझ नहीं सकी कि ऐसा क्यों हुआ। बाबूजी की तबियत दो दिन से थोडी ढीली थी। कहीं ज्यादा खराब तो नहीं हो गई होगी। आज शाम को वह उन्हें डॉक्टर के पास ले जाएगी। उसने मन ही मन ये निर्णय कर लिया था। कपड़े बदलकर जैसे ही वह बाहर आई कि दीपा सामने आ गई। उसने उसके हाथ में एक पत्र रख दिया। वह पत्र खुला हुआ था। अर्थात पत्र पढ़ा जा चुका है। तो यही है इन सभी की चुप्पी का राज। उसने पत्र की लिखावट देखी और उसके साथ ही अतीत में खो गई। वो अतीत जिसे उसने इन दो सालों में भूला दिया था, वह एक बार फिर उसे गुदगुदा रहा था। लेकिन उसे महसूस न करते हुए वह तो अपना निर्णय ले चुकी थी। क्या था उस पत्र में, जो उसे अतीत की ओर ले गया, क्या था वह निर्णय जो उसे डिगा भी नहीं सका, क्या था एेसा जो घर के सभी सदस्य चुप थे, इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए सुनिए भारती परिमल की कहानी - मुझे आधार नहीं चाहिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.