अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:34 pm
मैं बेचारा बेबस शिशु सबके हाथों की कठपुतली मैं वह करुं जो सब चाहें कोई न समझे मैं क्या चाहूँ। दादू का मै प्यारा पोता समझते हैं वह मुझको तोता दादा बोलो दादी बोलो खुद तोता बन रट लगाते मैं ना बोलूँ तो सर खुजाते। सुबह सवेरे दादी आती ना चाहूँ तो भी उठाती घंटों बैठी मालिश करती शरीर मोड़ व्यायाम कराती यह बात मुझे जरा नहीं भाती। ममा उठते ही दूध बनाती खाओ पिओ का राग सुनाती पेट है मेरा छोटा सा उसको वह नाद समझती मैं ना खाउँ रुआँसी हो जाती सुबक सुबक सबको बतलाती। पापा मुझको विद्वान समझते न्यूटन आर्किमिडिज बताते चेकोस्लाविया मुझको बुलवाते मैं नासमझ आँखें झपकाता अपनी नासमझी पर वह खिसियाते। चाचा मुझको गेंद समझते झट से ऊपर उछला देते मेरा दिल धक्-धक् हो जाता उनका दिल गद्-गद् हो जाता। भइया मेरा बड़ा ही नटखट खिलौने लेकर भागता सरपट देख ममा को छुप जाता झटपट मेरी उससे रहती है खटपट। सबसे प्यारी मेरी बहना बैठ बगल में मुझे निहारती कोमल हाथों से मुझे सहलाती मेरी किलकारी पर खूब मुसकाती मेरी मूक भाषा समझती अपनी मरज़ी नहीं है थोपती। दीदी को देख मेरा दिल गाता “ फूलों का तारों का सबका कहना है एक हजा़रों में मेरी बहना है।”

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.