अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:45 pm
भारती परिमल की कविताओं के कुछ अंश यहाँ प्रस्तुत हैं, जिन्हें पढ़ने के बाद इनका सुनकर आनंद उठाइए... 1 वादा... आज हवाओं ने किया है वादा घटाओं से वे उन्हें उड़ाते हुए झुलसते रेगिस्तान की रेतीली धरती पर ले जाएगी जहाँ हर कण तरस रहा है भीगने को सूखे पत्तों की चरमराहट में भी बँधी है आस फुहारों में भीगने की... 2 संवेदनाएँ... लोग कहते हैं हमारी संवेदनाएँ खोती जा रही हैं लेकिन हमारी संवेदनाएँ अभी भी हमारे आसपास जमी हैं और किसी अपनों के लिए हिमनदी सी पिघलने लगती हैं... 3 सुबह आएगी कभी... इस रात की सुबह आएगी कभी खामोश चीखें गूँजेंगी कभी संवेदनाएँ गुनगुनाएँगी कभी बूढ़ी आँखों में रोशनी जगमगाएगी कभी निराशा में आशा की कोंपलें फूटेंगी कभी कुरीतियों की सख्त बेड़ियाँ टूटेंगी कभी बेटे को घर की याद सताएगी कभी राखी की डोर पास बुलाएगी कभी... 4. नई सुबह... काली रात जा छुप जा कहीं कल की सुबह प्यार की सुबह होगी जब जन्म लेगी सुबह नए सिरे से माँग भरेंगी रात की जुल्फें सुनहरी किरणों से सितारें रो-रोकर करेंगे मैदान को शबनमी हवाओं के संग वादियाँ गुनगुनाएँगी फूलों-कलियों पर तितलियाँ खिलखलाएँगी

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.