अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:45 pm
ज्ञान की डगर पर ठहर नहीं तू चलता चल माना कि पथ यह दुर्गम है पर तेरी साँसों में भी दम है साथ तेरे संगी-साथी क्या हुआ जो बहुत कम है उनके हाथों को थाम कर उनका दु:ख भी तू हरता चल... ज्ञान की डगर पर ठहर नहीं तू चलता चल यह सफर बहुत तूफानी है फिर भी क्या परेशानी है ? दिशाएँ भी जो अनजानी है फिर भी डर तो पुरानी कहानी है ज्ञान की लहरों पर पतवार लिए बस बढ़ता चल... ज्ञान की डगर पर ठहर नहीं तू चलता चल तू मानव है, विचारों का पुंज बन हर मानव में मानवता भरता चल कर्म क्षेत्र का बन योद्धा तू हर क्षण स्वीकारता चल धैर्य के साथ तू तो चलता चल आत्मबल से मंजिल को पाता चल... ज्ञान की डगर पर ठहर नहीं तू चलता चल इसे ऑडियो के माध्यम से सुनिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.