अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

4:09 pm
अपना घर होने का सपना कौन नहीं देखता। सभी की आँखों में ये सपना पलता है। चाहे वह अमीर हो या गरीब । उसके सपनों का महल हमेशा सुंदर से सुंदरतम ही होता है। प्रकाशबाबू की आँखों में भी ये सपना पल रहा था। इसे पूरा करने के लिए वे वर्षों से जी-तोड़ मेहनत कर रहे थे। उम्र के ढलते पड़ाव पर आकर भी उनका ये सपना नन्हे शिशु की तरह उनकी आँखों में मचल रहा था। उसे पूरा करने के लिए आर्थिक हालात साथ नहीं दे रहे थे, पर वे थे कि पूरजोर कोशिश कर रहे थे। ऐसे में उन्होंंने एक ऐसा निर्णय लिया, जो उन्हें अपने सपने के बिलकुल करीब ले गया। बल्कि वो सपना उनकी हथेली पर ही आ गिरा और साकार हो कर उनके सामने खड़ा हो गया। वे खुश थे। बहुत खुश। एक छोटे बच्चे जैसी खुशी उनकी आँखों में दिखाई दे रही थी। रात-दिन एक कर उन्होंने जो रूपए जोड़े थे, उसका उपयोग हो रहा था। उनका सपना सच हो रहा था। बस कुछ पैसों की कमी पूरी करने के लिए उन्होंने एक कठोर निर्णय ले लिया। आखिर क्या था वो निर्णय जिसने उन्हें सब कुछ देकर भी अंत में खाली हाथ रख दिया। उनकी सपने में डूबी आँखें पथरा गईं और वे उस सुख के साझेदार भी न बन सके, इसी सपने की सच्चाई जानने के लिए सुनिए ये भावपूर्ण कहानी, अपना घर...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.