अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:01 pm
मैं एक बूँद हूँ। मेरी असलियत से अनजान आप मुझे पानी की एक बूँद कह सकते हैं या फिर ओस की एक बूँद भी। नदी, झरनें, झील, सागर की लहरों का एक छोटा रूप भी। लेकिन मेरी सच्चाई यह है कि मैं पलकों की सीप में कैद एक अनमोल मोती के रूप में सहेज कर रखी हुई आँसू की एक बूँद हूँ। इस सृष्टि के सृजनकर्ता ने जब शिशु को धरती पर उतारा तो उसकी आँखों में मुझे पनाह दी। ममत्व की पहचान बनकर मैं बसी थी माँ की पलकों में और धीरे से उतरी थी उसके गालों पर। गालों पर थिरकती हुई बहती चली गई और फिर भिगो दिया था माँ का आँचल। उस समय मैं खुशियों की सौगात बनकर माँ की आँखों से बरसी थी। दुआओं का सागर उमड़ा था और उसकी हर लहर की गूँज में शिशु का क्रंदन अनसुना हो गया था। रात की खामोशी में जब चाँद बादलों की ओट में लुका-छिपी खेलते तारों की टीम-टीम के साथ उनकी गुनगुन सुनता है, अपनी दूधिया चाँदनी बिखेरता है, तो उस एकांत में मैं किसी विरहिणी के आँखों के उजाड़ जंगल से आजाद होती हूँ। उसके गालों के मखमली मैदान से होकर गुजरती हूँ। होठों की पंखुड़ी पर कुछ पल ठहरती हूँ और अपने खारेपन को भूल जाती हूँ। तब बीते दिनों की यादों में खोई उस विरहणी की गुलाबी पंखुडिय़ाँ भी कुछ पल के लिए फैलकर मेरी जलन का अहसास भूल जाती है। मैं चाहूँ तो उसे अपने खारेपन में डूबो दूँ और मैं चाहूँ तो उसके अधरों पर मुस्कान की कलियों को नृत्य करने पर विवश कर दूँ। और क्या-क्या कर सकती है ये बूँद, जानने के लिए सुनिए बूँद की कहानी...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.