अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:49 pm
वाह री सरिता... बहती सरिता स्वच्छ निर्मल जल मृदु नाद तेरा करता कल-कल मन मैला ना कोई भी छल बहे निरंतर खा-खा सौ बल। नभ के सूरज चाँद सितारे वर्षों से खड़े वृक्ष किनारे पीठ पे लहरों की चढ़-चढ़ के किश्तों में लें पींग हुलारे। अनुशासित सी विहंग कतारें तिरती उड़तीं सरि किनारे फेनल का उपहार लिए संग सरिता की लहरों को निहारें। पल-पल धारा सर्जित हुई जाए भग्नमना तरू देवें बिदाई उदग्नि पल्लव गिरें प्रवाह में चूम दुलार प्रवाह अंक लगाए। घुटनों बैठे पत्थर राह में संग तिरने को करें उपाय प्यार भरा आलिंगन दे तटी कातर दृष्टि बेबसी जताए। तूफानों से जूझ हो फिर स्थिर मरूस्थलों का भाग्य सँवारे पिया मिलन की ललक अनूठी खारे जल में उमर गुज़ारे। ऐसे ही अन्य भावपूर्ण कविताओंं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.