अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:37 pm
कहानी का कुछ अंश... पौराणिक कथाओं से हम सभी अच्छी तरह से परिचित हैं। ये कथाएँ हमारा मार्गदर्शन करती हैं । हमारे संस्कारों की जड़ें मजबूत करती हैं। इसलिए समय-समय पर दादी-नानी की जबानी या घर के बड़ों की जबानी हम इन कथाओं को सुनते हैं। यहाँ भी हम आपके लिए महाभारत से जुड़ी एक कथा लेकर आए हैं। बहुत पुरानी बात है। हमारे देश में पांडु नाम के एक राजा राज करते थे। उनके पाँच पुत्र थे। युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव। उन सभी में अर्जुन तीरंदाजी में बहुत निपुण था। आचार्य द्रोण ने एक बार कौरवों और पांडवों की परीक्षा ली। उस परीक्षा में उन्होंने सभी को एक चिडि़या की आँख पर निशाना लगाने को कहा और उससे जुड़े हुए सवाल पूछे। किसने इन सवालों का संतोषपूर्ण उत्तर दिया और किसकी जीत हुई, यह जानने के लिए आप भी इस पौराणिक कथा का आनंद एक नन्हीं बालिका की मधुर आवाज में लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.