अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:51 pm
कहानी का कुछ अंश... रंगबिरंगी परियों का लोक-परीलोक। इस लोक में तरह-तरह की परियाँ रहती थीं। इन्हीं में एक परी थी, जो सबसे अलग थी। यूँ तो वह भी दूसरी परियों के समान ही सुंदर थी, लेकिन स्वभाव दूसरी परियों जैसा कोमल और दयालु न होकर कठोर था। वह थी भी बहुत तेज और गुस्सैल। बात-बात में गुस्सा हो जाती थी। तुनकमिजाज इतन की अपनी सहेलियों से भी छोटी-छोटी बातों में लड़ पड़ती थी। फिर नाराज हो कर एक कोने में बैठ जाती थी। उसमें सबसे बड़ी खराबी यह थी कि वह परीलोक के बाग में लगे उन फूलों से झगड़ा करती थी, जो उसे अच्छे नहीं लगते थे या फिर जिनके आसपास काँटे लगे हों। गुलाब के सुंदर पंखुड़ियों वाले फूल, जिनकी सारी परियाँ दीवानी थी, उसे तो वह बिल्कुल पसंद नहीं करती थी। वह उन्हें हाथों से मसलकर नष्ट कर देती थी। उसकी इस हरकत से सभी परियाँ दुःखी हो जाती थी। गुस्सैल परी को यदि इस बारे मंे समझाया भी जाए, तो वह तो तुरंत ही नाराज हो जाती। इसलिए उसे तो कुछ बोलना ही बेकार था। आखिरकार सभी परियाँ मिलकर पहुँची रानी परी के पास और उनसे उसकी हरकतों की षिकायत की। रानी परी ने उसे प्यार से समझाया- बेटी, तुम्हें दूसरों के साथ मिलजुलकर रहना चाहिए। सभी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। यदि तुम सभी के साथ बुरा व्यवहार करोगी तो विवष होकर मुझे तुम्हें सज़ा देनी होगी। फिर तुम पत्थर या काँटेदार पेड़ बना दी जाओगी, इसलिए किसी से लड़ाई-झगड़ा न करो और हिलमिलकर रहो। फूलों से प्यार करो, सहेलियों से प्यार करो और हमेषा खुष रहो। परी रानी के समझाने का उस घमंडी परी पर उल्टा ही असर हुआ। वह और गुस्सा हो गई। उसने सोचा- देखती हूँ कि मेरी षिकायत कौन करता है। मैं ऐसे फूलों को जादू से जला दूँगी। आखिर उसकी मनमानी बढ़ती गई और एक बार फिर उसकी षिकायत परी रानी के सामने आ पहुँची। अब तो परी रानी बहुत नाराज हो गई। उन्होंने घमंडी परी को बुलाया और कहा- नादान परी, मैंने तुम्हें समझाया था कि सबसे मिलजुलकर रहो, पर तुमने मेरी बात नहीं मानी। तुमने अपना नुकसान खुद किया है, अब सजा भुगतने के लिए तैयार हो जाओ। जब घमंडी परी ने देखा कि रानी परी तो बहुत गुस्से में है और उसे सजा देकर ही रहेगी, तो उसे थोड़ी अक्ल आई। वह रुआँसी हो कर बोली- मैं पेड़ या पत्थर नहीं बनना चाहती। मैं तो परीलोक को केवल सुंदर फूलों से सजा हुआ देखना चाहती थी इसीलिए कम सुंदर और काँटेवाले फूलों को नष्ट कर देती थी। मगर रानी ने उसकी एक न सुनी और अपनी जादू की छड़ी हाथ में लेकर कहा- मैं तुम्हें पेड़ या पत्थर नहीं, उससे सुंदर चीज बनाकर धरती पर भेज रही हूँ। उसके बाद रानी परी के जादू से धमंडी परी धरती पर आ गिरी। आगे क्या हुआ, ये जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.