अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:22 pm
कहानी का कुछ अंश... एक शहर के बीचों बीच बड़ा सा पार्क था, पार्क में बहुत सारे बड़े बड़े पेड़ लगे हुए थे। उन्ही पेड़ों में से एक पेड़ में चिडि़या अपने परिवार के साथ रहती थी। उसके तीन छोटे बच्चे थे। चिडि़या रोज बच्चों को घोसले में छोड़ कर सुबह से खाना लाने चली जाती और शाम को घोसले में वापस आती थी। तब चिड़िया के बच्चों में से एक बच्चा अपनी मां से हमेशा पूछता कि “मां पेड़ के बाहर की दुनिया कैसी होती है, आज आपने क्या क्या देखा” मां कहती “बेटा दुनिया बहुत ही खूबसूरत है” और वो बच्चों को बताती कि आज कहाँ कहाँ गई थी तो वह बड़े ध्यान से बातें सुनता और कहता “मां मैं कब इस खुबसूरत दुनिया को देख पाऊॅगा”. “बेटे तुम अभी छोटे हो, तुम्हारे पंख ठीक से बने नही हैं और तुमने अभी सही तरीके से उड़ना भी नहीं सीखा है, कुछ महिने ओर रुक जाओ फिर तो जिंदगी भर उड़ते रहना है। अगर अभी बाहर गये तो कोई भी जानवर तुम्हें मार देगा। बच्चा उस समय तो चुप हो जाता लेकिन उसके मन में उथल पुथल मची रहती। एक दिन जब मां भोजन लेने के लिए गयी तब बच्चे ने सोचा “अभी मैं छोटा हूँ तो पूरी दुनिया नही घूम सकता पर कम से कम इस पार्क की दुनिया तो देख ही सकता हूँ और मां के आने से पहले मैं वापस आ जाऊॅगां। जिससे माँ को भी पता नहीं चलेगा, वह अपने अन्य भाई बहनों को बताये बिना ही धीरे से घोसले के बाहर आ जाता है और पेड़ के तने से जमीन पर उतरता चला जाता है। जब वह पेड़ के निचे पहुँचता है तो देखता है कि जमीन घरे भरे घास से ढंका हुआ है। आसपास तरह तरह के रंग बिरंगे फूल खिलें हैं, यह सब देख कर वह आश्चर्यचकित हो जाता है। इससे पहले उसने इतने सुंदर फूल कभी नही देखे थे। वो खुशी के मारे जोर जोर से फुदकने लगता है। तभी फूल पर एक सतरंगी तितली आकर बैठती है। उसने आज तक ऐसी अनोखी तितली नही देखी थी, वह सोचता है कि क्यों ना इस अनोखी तितली से दोस्ती की जाये वह तितली के तरफ बढ़ता है तभी सतरंगी तितली उड़ जाती है, चिडि़या का बच्चा कुछ सोचे समझे बिना ही उसके पीछे भागने लगता है। तितली का पीछा करने के चक्कर में वह अपने पेड़ से दूर निकल आता है। आगे क्या होता है, यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.