अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:00 pm
डॉ. अमिता मूल रूप से हिमाचल की है और वर्तमान में वॉशिंगटन डी.सी. में स्थायी रूप से निवास कर रही हैं। आपकी रचनाओं को अपने ऑडियो ब्लॉग में स्थान देते हुए हमें प्रसन्न्‍ता अनुभव हो रही है। कविता का कुछ अंश... आज फिर बाहर चाँदी बिछी है आज फिर बिखरी धवल सी हँसी है फिर से मुझे इस मफलर ने गर्माया है नज़ारा वो सारा नज़र फिर से आया है सब याद आया है माँ का लिहाफ में सिमट के आना फिर से वो ऊन के गोले बनाना फंदे की ऊपर फंदे ही फंदे सिलाईयाँ उलझाना सिलाईयाँ सुलझाना सब याद आया है हर सिलाई पर हाथों से मापते जाना हर सिलाई पर हल्के से खींचते जाना रजाई में सभी का लिपटते चले आना रजाई घटाना रजाई बढ़ाना कोने दबाना वो कोने उठाना सब याद आया है मूंगफली गज्जकी पंजीरी की महक तरानों फ़सानों की चहक चहक सब याद आया है अचानक छुटकू का खिल-खिल खिलाना शरारती हो ऊन उठा भाग जाना माँ का हाँफना पीछे पीछे पूरे घर का चककर लगाना कमरे का हँसी से गले तक नहाना सब याद आया है माँ, सभी कुछ याद है अच्छे से याद है फिर वही मफलर पहना आज है तुम नहीं हो तुम्हारे वो चार दिन चार पहर पास है मेरे तुम्हारा प्यार, तुम्हारा दुलार , गरमा रहा है सर्द उच्छ्वास मेरे आज फिर बाहर चाँदी बिछी है आज फिर बिखरी धवल सी हंसी है फिर मुझे इस मफलर ने गर्माया है माँ तेरा दुलार बहुत याद आया है बहुत बहुत बहुत याद आया है .… एेसी ही अन्य मर्मस्पर्शी कविताओं का आनंद सुनकर लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.