अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:27 pm
पिता का समर्पण यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँ, निज हृदय का प्यारा टुकड़ा लो तुमको अर्पण करता हूँँ। मेरे हृदय के नील गगन का, यह चंदा-सा तारा था, मैं अब तक जान न पाया, इस पर अधिकार तुम्हारा था। लो अमानत यह अपनी, मैं करबद्ध निवेदन करता हूँ- यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँ। चाचा-चाची से भतीजी बिछड़ी, मौसा-मौसी से बिछड़ी बहनौैता, मामा-मामी से भाँजी बिछड़ी, नाना-नानी की आँखों का तारा। माँ की ममता का सागर, यह मेरी आँखों का तारा है, कैसे बताऊँ मैं तुमको, किस लाड़-प्यार से पाला है। लो आज तुम्हें इन नयनों की ज्योति अर्पण करता हूँ, यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँँ। इससे भूल बहुत-सी होंगी, यह भोली है सुकुमारी है, इसके अपराध क्षमा करना, यह माता की राजदुलारी है। माँ लक्ष्मी की शोभा, तुम्हें आज मैं अर्पण करता हूँ, यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँ। बुआ-फूफा से बेटी बिछड़ी, माँ से बिछड़ी उसकी क्षमता, भैया से आज बहन बिछड़ी, बहनों से प्यारी-सी ममता। यह बात समझकर मन में, यही सोचा करता हूँ- यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँ। यह जाएगी सब रोएँगे, छलकेंगे नयनों से तारे, माता, भैया, बहन, दादा सब रो देंगे आज हमारे। मैं आज पिता कहलाने का अधिकार समर्पित करता हूँ। यह कन्या रूपी रत्न तुम्हें मैं आज समर्पित करता हूँ। इसे ऑडियो की मदद से सुन‍िए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.