अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:11 pm
लेख का अंश...रिटायरमेंट के बाद के जीवन से घबरानेे की जरूरत नहीं है। जीवन की नई पारी आसानी से शुरू की जा सकती है और इसके लिए अपने वर्तमान जाॅब का अनुभव पूरा सहयोग देगा। व्‍यक्ति यदि यह दृढ़ निश्‍चय कर ले कि उसे जीवन संध्‍या के समय क्‍या करना है, तो उसे वह करने से कोई नहीं रोक सकता। वह अपनी तय की गई राह पर आगे बढ़ सकता है और संतोषपूर्ण अहसास के साथ्‍ाा जीवन जी सकता है। जिंदगी का हर पड़ाव, हर मोड़ हमें कुछ नया करने की सीख देता है। इस नया सिखने में कुछ नुकसान भी होता है और कुछ नया अनुभव भी। इंसान को हर नए अनुभव से गुजरकर जीवन की राहों में सफलता के लिए संघर्ष करते रहना चा‍हिए। कुुछ इसीतरह की बात कही गई है, जीने की कला के अंतर्गत एन. रघुराामन के माध्‍यम से... इसका आनंद आॅडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.