अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:53 am
लेख का अंश... हमारे वर्षों पुराने बिजनेस कुल्‍फी वाले और चूरण वाले की माँग अभी भी है, लेकिन आधुनिक स्‍वरूप में। इसके लिए चाहिए आधुनिक गेजेटस, वाहन, स्‍वच्‍छता और सेवाओं का अच्‍छा स्‍तर ताकि बिजनेस को एक नए स्‍तर तक ले जाया जा सके। आधुनिक जीवन में सभी सुविधाओं के साथ अपनी आवश्‍यकताओं की पूर्ति करना चाहते हैं। भागती-दौड़ती जिंदगी में जहाँँ खाने तक की फुरसत नहीं है, तो खाना कब बनाया जाए। ऐसे में यदि उन्‍हें बना-बनाया खानाा और वह भी अपनीी पसंद का घर के बाहर कदम रखते ही, कॉलबेज बजाकर अपने घर के सामने ही पलभर में उपलब्‍ध हो जाए, तो यह उनके लिए तो खुशकिस्‍मती होगी ही, साथ ही इस तरह का बिजनेस करनेवाले लोगों के लिए भी फायदेमंद होगा। इसी आवश्‍यकता और फायदे को ध्‍यान में रखते हुए कुछ नए रूप में ही पुराने बिजनेस को लाने की आवश्‍यकता है। जिसने इस बात को समझा, सफलता उसके दरवाजे पर आ खड़ी हुई, सुबह के उगते सूरज के स्‍वर्णिम उजाले की तरह गुनगुनाती हुई और मुस्‍कराती हुई... लेकिन क्‍या ये संभव है, यदि हाँ, तो किसतरह से... वो आप स्‍वयं इस ऑडियो की मदद से जान लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.