अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:16 pm
आज का युग तकनीक का युग है। चारों तरफ इंटरनेट का जाल बिछा हुआ है। हमारी सुबह और शाम इसी से होती है। दिन ढलता भी इसके साए मे है और उगता भी इसकी ही छत्रछाया में ही है। हमारा पूरा जीवन इंटरनेट के आधुनिक तारों से घिरा हुआ है। हम चाह कर भी इससे बच नहीं सकते। कभी-कभी तो हम इसमें इतना उलझ जाते हैं कि लगता है, कैसे इससे बाहर निकलें। लेकिन सच्‍चाई यह है कि यदि सकारात्‍मक सोच के साथ अच्‍छे व्‍यवहार के साथ इसे अपनाया जाए तो यह हमारी सफलता का मार्ग प्रशस्‍त करता है। आशातीत संभावनाएँँ और सफलताएँँ इंटरनेट के माध्‍यम से बाँँहें फैलाए खड़ी हैं। एन. रघुरामन अपने इस लेख के माध्‍यम से इन्‍हीं सफलताओं की कहानी हम तक पहुँँचा रहे हैं, जो कि इस दौड़ती-भागती जिंदगी में इंटरनेट के प्रयोग से हमें सफलता की ओर ले जाएगी। तो आइए ऑडियो के माध्‍यम से सुनते हैं इंटरनेट एवं जीवन की सफलता से जुड़े जीने की कला के नए तरीके...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.