अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:21 pm
कविता.... मेरी बेटी... मेरी बेटी अब हो गई है चार साल की स्कूल भी जाने लगी है वह करने लगी है बातें ऐसी कि जैसे सबकुछ पता है उसे । कभी मेरे बालों में करने लगती है कंघी और फिर हेयर बैण्ड उतार कर अपने बालों से पहना देती है मुझे हंसती है फिर खिलखिलाकर और कहती है कि देखो पापा लड़की बन गए । कभी-कभार गुस्सा होकर डांटने लग पड़ती है मुझे वह फिर मुंह बनाकर मेरी ही नकल उतारने लग जाती है वह मेरे उदास होने पर भी अक्सर हंसाने लगी है वह । रूठ बैठती है कभी तो चली जाती है दूसरे कमरे में बैठ जाती है सिर नीचा करके फिर बीच - बीच में सिर उठाकर देखती है कि क्या आया है कोई उसे मनाने के लिए। उसकी ये सब हरकतें लुभा लेती हैं दिल को दिनभर की थकान और दुनियादारी का बोझ सबकुछ जैसे भूल जाता हूँ । एक रोज उसकी किसी गलती पर थप्पड. लगा दिया मैंने सुनकर उसका रूदन विचलित हुआ था बहुत । इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए और ऐसी ही अन्य अन्य मर्मस्पर्शी कविताओं को सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.