अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कविता का अंश... मैं और यह शाम, निकल पड़ते हैं अक्सर थामे हाथ, सूर्य जब छिप जाता है गगन में कहीं दूर, पंछियाँ जब घर लौटने को हो जाती हैं मजबूर। ज्यों ज्यों शाम गहराने लगती है, कुछ है जो राग अपना गाने लगती है, मैं ढूँढने लगता हूँ ज़िंदगी यहाँ-वहाँ, वह लावारिस, ललचाई निगाहों से - मुझे निहारने लगती है। समझ नहीं पाता निहितार्थ उसका मैं, आँखें चुरा कर मुक्ति पाता हूँ, मुड़ कर देखता हूँ जो पीछे, आत्मग्लानि से ख़ुद को भरा पाता हूँ। हर गली मोहल्ले चौक-चौराहे पर, ज़िंदगी को फटेहाल सिकुरें गठरी सा देखता हूँ, कुछ कहती है ये निगाहें जो घेरे है मुझे, सुर्ख़ होठों पर है प्रश्न जिसे मैं निहार पाता हूँ। विचारों की घुर्नियाँ छेड़ने लगतीं हैं मुझे, अजीब सा कोलाहल कानों को थपथपाने लगता है, वे पूछते हैं अपनी सुबह के बारे में, मैं निरुत्तर ख़ुद को बहुत गिरा हुआ पाता हूँ। नहीं है मेरे पास वादों की लड़ियाँ, सपने दिखा तोड़ने वाला होता हूँ मैं कौन? उसके सवालों का है नहीं कोई मुकम्मल जवाब, बेबस, लाचार इसलिए रह जाता हूँ मैं, मौन। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

  1. मैं कौन? अपने आप को ढूंढना सरल नहीं है, इस नश्वर संसार में

    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.