अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:55 pm
कविता का अंश... (1) आकाश में- उमड़ते-घुमड़ते बादलों को देख बहुत खुश है नदी, कि उसकी बुढ़ाती देह फ़िर जवान हो उठेगी. चट्टानों के बीच गठरी सी सिमटी फ़िर कल-कल के गीत गाती पहले की तरह बह निकलेगी. (२) अकेली नहीं रहना चाहती नदी खुश है वह यह सोचकर, कि कजरी गाती युवतियां सिर पर जवारों के डलिया लिए उसके तट पर आएंगी पूजा-अर्चना के साथ, वे मंगलदीप बारेगीं उतारेगीं आरती मचेगी खूब भीड़-भाड़ यही तो वह चाहती भी थी. (३) पुरुष धोता है अपनी मलिनता स्त्रियां धोती है गंदी कथड़ियां बच्चे उछल-कूद करते हैं - छपाछप पानी उछालते गंदा होती है उसकी निर्मल देह फ़िर भी यह सोचकर खुश हो लेती है नदी,कि चांद अपनी चांदनी के साथ नहाता है रात भर उसमें उतरकर यही शीतलता पाकर उसका कलेजा ठंडा हो जाता है. अन्य कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... यदि आपको कविता पसंद आती है, तो आप सीधे कवि से दूरभाष के माध्यम से संपर्क कर उन्हें बधाई प्रेषित कर सकते हैं। संपर्क - 07162-246651,9424356400

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.