अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:20 pm
कविता का अंश... मेरे अन्दर का आकाश कभी स्वच्छ, निरभ्र, साफ-सुथरा धुला-धुला,असीम उल्लास बिखेरता मुझे उत्साहित करता है, प्रेरित करता है !…..... तब मैं चहकी-चहकी, महकी-महकी थिरकी - थिरकी, काम में मगन लिए अथक मन, प्रफुल्लित रहती हूँ दिन में दमकता सूरज रात में चमकता चाँद टिमटिम तारों की दीपित आभा एक सुहाना गुनगुना आभास मन्द - मन्द शीतल फुहार का अहसास भर देता मन में ढेर उजास ! पर ..........................., कभी-कभी मेरे अन्दर का आकाश अँधेरा, मटमैला घटाओं से घिरा अनन्त निराशा उड़ेलता मुझे हतोत्साहित करता, डराता तब मैं चुप - चुप सहमी-सहमी थमी - थमी, काम से उखड़ी लिए थका मन..............., निरूत्साहित रहती हूँ ! न दिन में सूरज, न रात में चाँद सितारे भी जैसे सो जाते लम्बी तान एक ठहरे से दर्द का आभास तूफान से पहली की खामोशी का अहसास कर देता मन को बहुत उदास ! ऐसी ही अन्य कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.