अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

कविता का अंश... माँ…माँ संवेदना है, भावना है अहसास है माँ…माँ-माँ संवेदना है, भावना है अहसास है माँ…माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है, माँ…माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है, माँ…माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है, माँ…माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है, माँ…माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है, माँ…माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है, माँ…माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है, माँ…माँ झुलसते दिलों में कोयल की बोली है, माँ…माँ मेहँदी है, कुमकुम है, सिंदूर है, रोली है, माँ…माँ कलम है, दवात है, स्याही है, माँ…माँ परामत्मा की स्वयँ एक गवाही है, माँ…माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है, माँ…माँ फूँक से ठँडा किया हुआ कलेवा है, माँ…माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है, माँ…माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है, माँ…माँ चूडी वाले हाथों के मजबूत कधों का नाम है, माँ…माँ काशी है, काबा है और चारों धाम है, माँ…माँ चिंता है, याद है, हिचकी है, माँ…माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है, माँ…माँ चुल्हा-धुंआ-रोटी और हाथों का छाला है, माँ…माँ ज़िंदगी की कडवाहट में अमृत का प्याला है, माँ…माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है, माँ बिना इस सृष्टी की कलप्ना अधूरी है, तो माँ की ये कथा अनादि है, ये अध्याय नही है… …और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है, और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है, तो माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता, और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता, और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता। इस कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

  1. जय मां हाटेशवरी...
    आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये दिनांक 08/05/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.