अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:30 pm
कहानी के बारे मे... दिव्‍यदृष्टि के श्रव्‍यसंसार में हम लेकर आए हैं, गुजराती लेखक प्रशांत दयाल की पुस्‍तक 'जीवती वारता' में से एक गुजराती कहानी। नन्‍हें पंछियों के पंख तो छोटे होते हैं, लेकिन उनके हौसलों की उड़ान काफी ऊँँची होती है। उनका साहस, आत्‍म विश्‍वास इतना अधिक होता है, कि वे अासमान छूने की तमन्‍ना रखते हैं और इसके लिए प्रयत्‍नशील रह‍ते हैं। यहाँँ नन्‍हें पंछियों से आशय छोटे बच्‍चाें से हैं, जो कुछ कर गुजरने का जज्‍बा रखते हैं और माता-पिता भी उनका साथ देते हैं। या फिर ऐसा कह लें कि माता-पिता अपने लाडले को कुछ बनाने की महात्‍वाकांक्षा रखते हैं और बच्‍च्‍ोो उनका साथ देते हैं। गरीबी समस्‍या जरूर बनती है, पर रूकावट नहीं, हौसलों की ऊँँची उड़ान के आगे यह भी एक पल को दूर हट जाती है और रास्‍ता दे देती है। कुछ कर गुजरने की इच्‍छा और बलशाली हो जाती है। गुजरात के अहमदाबाद शहर की एक सच्‍चीी घटना को प्रशांत दयाल ने अपनी कहानी में स्‍थान उजागर किया है। वही कहानी गुजराती भाषा के माध्‍यम से हम अपने गुजराती श्रोताओं तक पहुँँचाने का एक अभिनव प्रयास कर रहे हैं। यद‍ि आप भी गुजराती भाषा की समझ रखते हैं, तो इस कहानी का एक बार आनंद जरूर लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.