अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:05 pm
दिव्य दृष्टि के श्रव्य संसार में हम लेकर आए हैं एन.रघुरामन की जीने की कला, जिसमें यह बताया गया है कि बच्चों को सुलाने के लिए सुनाई जानेवाली कहानियों को बदलना चाहिए। नई कहानियाँ बननी चाहिए और नई खोज की जानी चाहिए ताकि हमारे बच्चे आज की दुनिया की नई जिम्मेदारियाँ लेने के लिए स्वयं को तैयार कर सकें। बच्चे वो कोमल पौधे या कोमल मिट्टी हैं, जिन्हें जैसा चाहें वैसा आकार दिया जा सकता है। अत: उनकी सोच को बदलने का प्रयास कर उन्हें सही मार्गदर्शन दिए जाने की आवश्यकता है। बच्चों के कोमल मन-मस्तिष्क को एक नए साँचे में ढालने की प्रक्रिया से जुडी बातें जानते हैं इस ऑडियो के माध्यम से….

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.