अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

मध्यप्रदेश के शाजापुर में जन्मे खलील कुरैशी बाल कवि के रूप में जाने जाते हैं। उनके अंदर राष्ट्रप्रेम कूट-कूट कर भरा हुआ है। उनका कहना है कि हमारी कविताओं ने आजादी की लड़ाई में मुख्य भूमिका निभाई है। अब उसे सामाजिक निर्माण और राष्ट्रीय सदभाव की दिशा में भी मुख्य भूमिका निभानी है। हमें इसके बीज बालमन में डालने होंगे। हर बालक पहले भारतीय है, फिर हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई है। अनेकता में एकता की भावना का यह ककहरा हमें ही सिखाना होगा। वे इसी दिशा में प्रयासरत होकर कई राष्ट्र प्रेम से जुड़ी कविताओं की रचना कर चुके हैं। यहाँ उनकी कुछ चुनिंदा कविताएँ प्रस्तुत हैं। कविता का अंश… यह भारत देश हमारा है, सबकी आँखों का तारा है। हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, हैं सभी इसके शैदाई, इसकी खातिर हम जीएँ मरें, यही सच्चा स्वर्ग हमारा है। यह भारत देश हमारा है। इस गुलशन में नए रंग लिए, निखरा है खून शहीदों का, जब-जब भी इस पर वक्त पड़ा, मिल दुश्मन को ललकारा है, यह भारत देश हमारा है। आओ मिलकर संकल्प करें, भारत माँ की रक्षा के लिए, इसी श्यामल रज में मुक्ति हो, इसी माँ ने हमें उपकारा है, यह भारत देश हमारा है। ऐसी ही राष्ट्रप्रेम से जुड़ी अन्य कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें


  1. खलील कुरैशी जी की देशप्रेम की सुन्दर रचना के साथ परिचय कराने हेतु आभार!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.