अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:50 pm
पंचवटी का अंश... राघवेन्द्र रमणी से बोले-"बिना कहे भी वह वाणी, आकृति से ही प्रकृति तुम्हारी, प्रकटित है हे कल्याणी! निश्वय अद्भुत गुण हैं तुम में, फिर भी मैं यह कहता हूँ- गृहत्याग करके भी वन में, सपत्नीक मैं रहता हूँ॥ किन्तु विवाहित होकर भी यह, मेरा अनुज अकेला है, मेरे लिए सभी स्वजनों की, कर आया अवहेला है। इसके एकांगी स्वभाव पर तुमने भी है ध्यान दिया, तदपि इसे ही पहले अपने, प्रबल प्रेम का दान दिया॥ एक अपूर्व चरित लेकर जो, उसको पूर्ण बनाते हैं, वे ही आत्मनिष्ठ जन जग में, परम प्रतिष्ठा पाते हैं। यदि इसको अपने ऊपर तुम, प्रेमासक्त बना लोगी, तो निज कथित गुणों की सबको, तुम सत्यता जना दोगी॥ जो अन्धे होते हैं बहुधा, प्रज्ञाचक्षु कहाते हैं, पर हम इस प्रेमान्ध बन्धु को, सब कुछ भूला पाते हैं। इसके इसी प्रेम को यदि तुम, अपने वश में कर लोगी, तो मैं हँसी नहीं करता हूँ, तुम भी परम धन्य होगी।" इस पूरी कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.