अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:56 pm
कविता का अंश...याज्ञसेनी, हाँ द्रौपदी हूँ, मैं ! वैभव सिराहने से लगा कर रात भर सोई नहीं हूँ चन्द्रमा की रोशनी में स्मरण करना चाहती हूँ उन पलों को जो छिपे होंगे कहीं मेरा अघोषित भूत बन कर आश्चर्य है, शैशवविहीना, मैं हुई हूँ क्यों ! महल की प्राचीर के नीचे उषा की लालिमा में भूख से व्याकुल रो रही है एक कन्या बहुत छोटी, बहुत नाजुक; माँ स्नेह से व्याकुल लपकती है हृदय से बाँध लेने को अपलक देखती है द्रौपदी इस स्नेहबंधन को मधुर वात्सल्य का रस है ! चहकते पक्षियों से ताल पूरा भर गया है वे पथिक हैं, दूर उड़ कर जा रहे हैं प्रशस्ति में वरुण की कूकते हैं वे ऋचाएँ और बादल-राग में मल्हार किंचित गा रहे हैं मोगरे के फूल-सा महका, खिला मन है हवा भी कसमसाती है, द्रौपदी इस भोर में कुछ गुनगुनाती है ! इस पूरी कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.