अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:27 pm
पंचवटी का अंश... कह सकते हो तुम कि चन्द्र का, कौन दोष जो ठगा चकोर? किन्तु कलाधर ने डाला है, किरण-जाल क्यों उसकी ओर? दीप्ति दिखाता यदि न दीप तो, जलता कैसे कूद पतंग? वाद्य-मुग्ध करके ही फिर क्या, व्याध पकड़ता नहीं कुरंग? लेकर इतना रूप कहो तुम, दीख पड़े क्यों मुझे छली? चले प्रभात वात फिर भी क्या, खिले न कोमल-कमल कली?" कहने लगे सुलक्षण लक्ष्मण-"हे विलक्षणे, ठहरो तुम; पवनाधीन पताका-सी यों, जिधर-तिधर मत फहरो तुम। जिसकी रूप-स्तुति करती हो, तुम आवेग युक्त इतनी, उसके शील और कुल की भी, अवगति है तुमको कितनी?" उत्तर देती हुई कामिनी, बोली अंग शिथिल करके- "हे नर, यह क्या पूछ रहे हो, अब तुम हाय! हृदय हरके? अपना ही कुल-शील प्रेम में, पड़कर नहीं देखतीं हम, प्रेम-पात्र का क्या देखेंगी, प्रिय हैं जिसे लेखतीं हम? रात बीतने पर है अब तो, मीठे बोल बोल दो तुम; प्रेमातिथि है खड़ा द्वार पर, हृदय-कपाट खोल दो तुम।" इस पूरी कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.