अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:47 pm
कहानी का अंश… शाम को दफ्तर से घर लौटती तो आए दिन सेंटर टेबल पर पड़े दो-तीन लाल-गुलाबी-चमकीले शादी के कार्ड मुझे मुँह चिढ़ाते नजर आते। रोज-रोज की इस बेइज्जती से मैं टूट चुकी थी। अपने ही घर में हर रोज, बिना वजह, परायापन महसूस कराया जा रहा था और अब तो हालात यहाँ तक पहुँच चुके थे कि घर के किसी कोने में कोई दो लोग धीमी आवाज में बात भी करें, तो मुझे लगता कि मेरा ही जिक्र और मेरी ही फिक्र हो रही है। यह अवसाद अब पागलपन का रूप लेता जा रहा था। स्वभाव से स्वच्छंद, बेफिक्र, स्वाभिमानी, स्वावलंबी मैं… धीरे-धीरे अवसादग्रस्त होती चली जा रही थी। ऐसे में एक दिन भैया ने सुबह-सुबह आदेश दिया कि आज दफ़्तर से छुट्टी ले लो। मैं कुछ वजह पूछती कि उससे पहले ही भाभी ने शरारती अंदाज में कमर पर हाथ रखते हुए कहा, दीदी, तैयार हो जाओ। आपको देखनेवाले आ रहे हैं। घर में त्योहार-सा माहौल हो गया। भाभी मेरे लिए खूबसूरत गहने और साडियाँ निकालकर बिस्तर पर जमा रही थी। घर के सभी लोग खुश थे.. बहुत खुश…। आगे क्या हुआ, यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.