अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:45 pm
कहानी का अंश... रास्ते की परेशानियों से जूझते हुए ग्वेन को एक सुबह एक किला दिखाई दिया। किला एक पहाड़ी पर था। क्या यही है वह पुराना किला? लेकिन न तो आसपास जंगल है और न ही यह किला पुराना दिखाई दे रहा है। ग्वेन ने सोचा। क्या मैं गलत स्थान पर तो नहीं आ गया हूँ? अभी ग्वेन ये सब सोच ही रहा था कि इतने में एक घुड़सवार उसके पास आकर रूका और बोला - आपका स्वागत है मित्र। मेरे किले में चलिए। आपको कोई तकलीफ नहीं होगी। ग्वेन ने कहा- मैं अपने घर से इतनी दूर आराम करने के लिए नहीं आया हूँ। मुझे तो एक पुराने किले में जाना है और वहाँ एक अपिरचित व्यक्ति से युद्ध करना है। मेरा नाम बर्नलेक है और मैं आपको काले जंगल का रास्ता तथा पुराने किले का पता बता दूँगा। अभी आप मेरे साथ चलिए। उस घुड़सवार ने ग्वेन का बहुत स्वागत-सत्कार किया। उसकी पत्नी ने स्वयं अपने हाथों से भोजन बनाकर उसे खिलाया। इसी तरह कई दिन बीत गए। आखिर एक दिन ग्वेन ने कहा - मुझे आप काले जंगल का पता बता दीजिए, तो कृपा होगी। ग्वेन की बात सुनकर बर्नलेक हँस पड़ा और बोला- चिंता न करो। मैं आपको पता अवश्य बताऊँगा। मगर आज मैं एक आवश्यक कार्य से जा रहा हूँ। वहाँ से लौटकर आपको काले जंगल का पता बता दूँगा। बर्नलेक ने क्या ग्वेन को काले जंगल का पता बताया? वह अपिरचित कौन था, जिससे ग्वेन को युद्ध करना था? यह सारी बातें जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.