अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:30 pm
पिता और शब्दकोश... कविता का अंश... जिल्द में लिपटा पिता का दिया शब्दकोश अब हो गया है पुराना ढल रही उसकी भी उम्र वैसे ही जैसे कि पिता के चेहरे पर भी नज़र आने लगी हैं झुर्रियां मगर डटे हैं मुस्तैदी से दोनों ही अपनी -अपनी जगह पर । अटक जाता हूँ कभी तो काम आता है आज भी वही शब्दकोश पलटता हूँ उसके पन्ने पाते ही स्पर्श उँगलियों के पोरों से महसूस करता हूँ कि साथ हैं पिता थामे हुए मेरी ऊँगली जीवन के मायनों को समझाते हुए राह दिखाते एक प्रकाशपुंज की तरह। जमाने की कुटिल चालों से कदम -कदम पर छले गए स्वाभिमानी पिता होते गए सख्त बाहर से वह छुपाते गए हमेशा ही भीतर की भावुकता को। ताकि मैं न बन जाऊ दब्बू और कमजोर और दृढ़ता के साथ कर सकूँ सामना जीवन की हर चुनौती का। इस अधूरी कविता और अन्य कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए...

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.