अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

3:01 pm
अकेलपन की अंगड़ाइयाँ... कविता का अंश... पता नहीं कभी कभी क्यों खुद को इतना अकेला पाता हूँ, हजारों की भीड़ में भी पंछियों के सुरों को सुन पाता हूँ । कभी समंदरों से भी गहरी लगती है, तो कभी हिमालय से भी उतुंग, कभी उन लहरों की मस्तियों को समझकर तो देखो, एक बार अकेलेपन की अँगड़ाई ले कर तो देखो । कभी खँजरों से भी नुकीली लगती है, तो कभी पँखुड़ियों से भी कोमल, कभी तो उस चुभन को महसूस कर के देखो, एक बार अकेलेपन की अँगड़ाई ले कर तो देखो । कभी झोपड़ियों से भी ज्यादा अमीर लगती है, तो कभी महलों से भी ज्यादा गरीब, कभी उस दोगली अमीरी का चश्मा उतारकर तो देखो, एक बार अकेलेपन की अँगड़ाई ले कर तो देखो । कभी अमावस्या से भी ज्यादा अंधकारमय, तो कभी पूर्णिमा से भी ज्यादा तेजोमय, कभी सितारों के उस पार देखने की कोशिश तो करो, एक बार अकेलेपन की अंँगड़ाई ले कर तो देखो । आगे की कविता का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए... संपर्क - nisarg1356@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.