अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:43 pm
लेख का अंश… चाहते हैं कि नियति आप पर मुस्कराए तो एचटीडीओ को आदत बनाएँ। यह एचटीडीओ क्या है? इसका अर्थ होता है - होल्ड्स द डोर ओपन यानी एचटीडीओ। हाल ही में मैंने इसके बारे में पढ़ा। शायद आपके साथ पहले भी कभी ऐसा हुआ हो कि जब आप किसी हॉटल के दरवाजे की तरफ बढ़ रहे होते हैं तो आगे चल रहा व्यक्ति दरवाजा धकेलकर आगे निकल जाता है और दरवाजा आपकी नाक पर आकर टकराता है। या फिर ऐसा भी होता है कि आपके आगे का व्यक्ति दरवाजा खोलकर रखता है और आपके गुजरने के बाद उसे बंद कर देता है। याद करें कि आपको उसका वह व्यवहार कितना अच्छा लगा था। भले ही वह उस क्षण तक ही याद रहता है। लेकिन क्या कभी आपने भी दूसरों के लिए ऐसा किया? हमारे देश की 99 प्रतिशत आबादी ऐसी ही है, जो दरवाजे को खुला छोड़कर उसे पीछे धड़ाम से टकराने के लिए छोड़ आगे बढ़ जाते हैं। केवल एक प्रतिशत ही ऐसे लोग हैं, जो दूसरों को दरवाजा न लगे इसका ध्यान रखते हुए उसे खोलकर रखते हैं और दूसरों के अंदर आने के बाद उसे बंद करते हैं। सीधी-सी बात है, कि यदि आप दूसरों की परवाह करेंगे तो दूसरे भी आपकी परवाह करेंगे। दूसरे भले ही न करें लेकिन आपकी सदाशयता के कारण नियति तो आपका भला करने के लिए तैयार ही रहेगी। बस आपको स्वयं को बदलना होगा और तभी आप एक सच्ची मुस्कराहट पाएँगे। कुछ इसी तरह की सकारात्मक ऊर्जा से भरी हुई बातें जानिए ऑडियो के माध्यम से…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.