अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

8:28 am
कविता का अंश…. उमड़-घुमड़ कर आई घटा सावन की, साथ लाई यादें बाबुल के आँगन की। रखकर सूनी कलाई बैठे हैं भाई, बहना ने रिश्तों की डोर उस पर है सजाई। बाँधा है प्यार अपना राखी के कच्चे धागों में, हँसते-गाते जीवन बीते… दुआ है यही इन कच्चे तागों में। दूर देश में बैठी है माँ-सी ममता बरसाती बहना, बरस-बरसकर, उमड़-उमड़कर… आती है दुआएँ लबों पर, कुछ मुस्कानों के मोती बिखरते हैं, कुछ आँसू की लड़ियाँ बनती हैं, बनती-सँवरती इन लड़ियों में रिश्तों की मजबूत कड़ियों में बहना की दुआएँ पलती हैं। हर पल, हर क्षण वो, भाई के संग-संग चलती हैं। भावविभोर करती ऐसी ही कविताओं का आनंद ऑडियो की मदद से लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.