अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

4:08 pm
कथा का अंश… वह छोटा लड़का बहुत तेजी से खुर्पी चला रहा था। वेदा ने उसे लॉन की सूखी घास छीलने के लिए कहा था। भूख से बेहाल जब वह उसके दरवाजे पर कुछ खाने के लिए माँगने आया तो वेदा ने उसे डाँटते हुए कहा कि तुम लोगों की तो आदत है, भीख माँगने की। बिना काम के कुछ नहीं मिलेगा। भूख से अँतड़याँ खींची जा रही थी किंतु कोई चारा नहीं था अत: वह काम करने के लिए तैयार हो गया। वेदा ने उसे खुर्पी लाकर दी और वह घास छीलने लगा। गरमी के दिन थे। उसके माथे से पसीना टपक रहा था लेकिन वह इन सब बातों की परवाह किए बिना अपना काम कर रहा था। पेट की आग ने सारी परेशानियों का अहसास मिटा दिया था। अब तो बस वह यही सोच रहा था कि कब काम खत्म हो और उसे मजदूरी मिले और वह कुछ खा सके। क्या उसे खाना मिला? जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.