अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:08 pm
कविता का अंश... हरा सुनहरा नीला काला रंग बिरंगे बूटे वाला, चमक रहा है कितना चमचम इसका सुन्दर पंख निराला। लंबी पूंछ मुकुट धर सिर पर भीमाकार देह अति सुन्दर, कितनी प्यारी छवि वाले ये इन पर मोहित सब नारी नर। वर्षा ऋतु की जलद गर्जना सुनकर होकर भाव विभोर, नाच रहा जंगल में मोर बच्चों तुम मत करना शोर। सुनकर यह आवाज तुम्हारी तुम्हें देखकर डर जाएगा, अपने प्राणों की रक्षा में कहीं दूर यह भग जाएगा। फिर कैसे तुम देख सकोगे मनमोहक यह नृत्य मोर का, देखो कैसे देख रहा है दृश्य घूमकर सभी ओर का। नृत्य कर रहा कितना सुन्दर अपने पंखों को झकझोर, नाच रहा जंगल में मोर बच्चों तुम मत करना शोर। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए... संपर्क - ई-मेल - ptsahityarthi@rediffmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.