अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:27 pm
लेख का अंश… बदलाव शाश्वत है। कुदरत हर पल बदल रही है। दुनिया बदल रही है। बदलाव ही विकास का एकमात्र रास्ता है। हम सभी बदलते रहना चाहते हैं। कुछ नया करना चाहते हैं। कुछ नया सीखना चाहते हैं। लेकिन हमारे अंदर एक ऐसी ताकत है, जो हमें बदलने से रोकती है। इस शक्ति का स्रोत है हमारा अवचेतन मन। दरअसल हमारे अंदर दो तरह की शक्तियाँ एक साथ काम करती है। एक शक्ति हमें प्रेरित करती है कि कुछ नया सोचो, कुछ नया करो। हमें अपनी क्षमताओं को फैलाने में प्रोत्साहित करती है। दूसरी शक्ति है जो हमें पीछे खींचती है और सुरक्षा के भँवर में उलझाए रखना चाहती है। जब भी हमें किसी नए प्रोजेक्ट पर काम करना हो, अनजान लोगों के बीच स्टेज पर अपनी बात कहनी हो या अपने सपनों को पूरा करने के लिए किसी अनजान शहर का रूख अपनाना हो, हमारे अंदर खतरे का एक झंडा उठ खड़ा होता है। अवचेतन मन हमारे विश्वास को कुचलने की कोशिश करता है। फलस्वरूप हम द्वंद्व में पड़ जाते हैं और अपनी योजनाओं को माकूल समय के इंतजार में खड़ा कर देते हैं। यही वजह है कि हमारी क्रिएटिव क्षमताएँ सुप्तावस्था में चली जाती है और हम जिंदगी के नए अनुभवों व रोमांच से वंचित रह जाते हैं। इस अधूरे लेख को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.