अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:34 am
कविता का अंश… लहराते, टकराते, झूमे, चुन्नू, मुन्नू, राजू, मुनिया, उड़े पहनकर पैर में पहिए, बाबू, ये स्केट्स की दुनिया। बेल्जियम का जोसेफ मर्लिन, इस खेल का प्रथम खिलाड़ी। पहुँचा बॉलरूम में नचने, हाथ में वायलिन, पैर में गाड़ी। पहिए रोल हुए कुछ ऐसे, न रूक पाए, न मुड़ पाए। मर्लिन भेया ऐसे फिसले, जाकर शीशे से टकराए। वायलिन टूटा, खुद भी टूटे, भूल गए पहियों पर चढ़ना। कथा यहीं पर खत्म न हुई, उसको तो परवान था चढ़ना। तिरसठ साल गुजर जाने पर, स्केट्स लौटे रेस में। रॉबर्ट टायर दौड़ा इन पर, इंग्लैंड नामक देस में। मौज, मजा और धूम-मस्ती, खुलकर उसने गदर किया। एक के पीछे एक जुड़े थे, पाँच व्हील पर सफर किया। चार व्हील स्केट्स का प्रचलन, चालीस बरसों बाद हुआ। जेम्स प्लिमटन नामक नर ने, नए सिर से इसे छुआ। लकड़ी के पहियों पर उसने, खोल रबर का चढ़ा दिया। नई खोज ने उसका रूतबा, चहुँ दिशा में बढ़ा दिया। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.