अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:32 pm
कहानी का अंश…. मिनी चूहा और बिल्लू बिल्ला दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे। दोनों का जन्मदिन भी एक ही दिन आता था। सारे दोस्त आ-आकर बिल्लू को बधाई दे रहे थे। वह बहुत खुश था। फिर वह अपने दोस्त मिनी को जन्मदिवस की बधाई देने के लिए घर से निकल पड़ा। मिनी चूहा अपने भाई-बहनों और माता-पिता के साथ नदी किनारे रहता था। वह बेसब्री से अपने मित्र बिल्लू बिल्ला का इंतजार कर रहा था। दोनों ने जब एक-दूसरे को देखा तो खुशी के मारे चिल्ला पड़े – हेप्पी बर्थ डे टू यू। बिल्लू और मिनी की दोस्ती पूरे जंगल में मशहूर थी। दोनों ने एक-दूसरे को जन्मदिवस की मुबारकबाद दी। फिर मिनी अपने दोस्त बिल्लू को अपने घर ले गया। वहाँ उसकी मम्मी ने उन दोनों के लिए मिठाई बनाई थी। मिठाई के साथ-साथ उन्हें खूब सारा आशीर्वाद भी दिया। दोनों दोस्त फिर खेलने के लिए बाहर निकल पड़े। खेलते-खेलते बहुत देर हो गई। अब बिल्लू को अपने घर की याद आई। पापा उसका इंतजार कर रहे होंगे। उन्होंने शाम को स्पेशल चीज बनवाने के लिए बोला है। पता नहीं क्या बनाएँगे। बिल्लू ने अपने दोस्त मिनी को भी शाम को घर आने की दावत दी और वह अपने घर की ओर चल पड़ा। जब पापा ने उसे प्यार से गले लगाया तो पापा के प्रति उसका डर खत्म हुआ। उसने पापा से पूछा कि वे उसे क्या स्पेशल चीज देंगे? लेकिन पापा ने शाम को ही पता चलेगा कह कर उसे खेलने भेज दिया और वे मम्मी के साथ मिलकर शाम की दावत की तैयारी में लग गए। बिल्लू ने घर के अंदर जाकर दूध पिया और बाहर खेलने के लिए निकल पड़ा। जब वह बाहर निकल रहा था तो उसने मम्मी-पापा के बीच होने वाली बातचीत सुन ली। बातचीत सुनकर वह परेशान हो गया। उसे कुछ सूझ नहीं रहा था। वह क्या करे? आखिर बिल्लू ने ऐसी क्या बात सुनी कि वह परेशान हो गया? यह जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.