अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:56 pm
आज की दौड़ती-भागती जिंदगी में हम सभी वाहन के सहारे सड़कों पर दौड़ने के आदी हो गए हैं। सड़कों पर दौड़ते ये वाहन ट्रक, बस, कार, बाइक्स, स्कूटर, साइकिल आदि कितने ही दो पहिया और चार पहिया वाहन होते हैं, जो हमारे सफर को आसान बनाते हैं। कार या अन्य वाहनों में लगाए गए काँच काफी मजबूत होते हैं, हल्की सी ठोकर लगने से ये एकदम से टूटकर बिखरते नहीं हैं। ऐसा क्या होता है उनमें ? यह जानने के लिए सुनिए यह विज्ञान से जुड़ी कविता। कविता का अंश… एक रोज़ हम बैठे थे बस में, डूबे थे गानों के रस में। इतने में दंगाई आए, संग में लाठी पत्थर लाए। गुस्सा उनका उबल रहा था, हवा में मुक्का उछल रहा था। माँग में उनकी थी ललकार, मचा रहे थे चीख पुकार। सबसे आगे बैठ थे हम, डर के मारे निकल रहा था दम। इतने में एक पत्थर आया, बस के शीशे से जा टकराया। हमने देखा ओर न छोर, भागे बस की पिछली ओर। डरे, काँच घायल कर देगा, बदन से नाहक खून बहेगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ कुछ, टूट गया बिखरा न काँच। किसी ने हमको बतलाया तब, कहते इसको सेफ्टी ग्लास। बात पुरानी कर लें याद, बेनडिक्टस ने किया इजाद। सेफ्टी ग्लास की खातिर दे दें, हम सब मिलकर उनको दाद। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.