अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

1:37 pm
लेख का अंश्… नारी ईश्वर की कोमल रचना है। अबला है, सबला नहीं हो सकती। इन तमाम जुमलों को एक साथ झुठला देने वाली नायिका है - नाडिया। उसने तीस और चालीस के दशक में इन तमाम मिथकों को गलत साबित किया। अपनी दिलेरी की बदौलत शोहरत के हिमालय तक पहुँचने में कामयाब हुई। फिल्म डायमंड क्वीन के प्रचार पर्चे पर उसने लिखवाया था - थका देने वाली फिल्में कोई और होंगी। मेरी फिल्में देखकर दर्शक जोश से भर जाते हैं। मुंबई के वाडिया मूवीटोन की फिल्मों और बैनर को गाँव-गाँव में लोकप्रिय बनाने का श्रेय नाडिया को जाता है। उस समय के दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने में नाडिया और जॉन कावस की जोड़ी को अपार सफलता मिली। नाडिया ने वाडिया ब्रदर्स की तीस से अधिक फिल्मों में काम किया। इसी प्रतिष्ठान के मालिक होमी वाडिया से बावन वर्ष की उम्र में कानूनी रूप से विवाह भी किया। अपनी दिलचस्प शख्सियत के चलते छोटे भाई रॉबर्ट को दत्तक पुत्र माना। प्रसिद्ध रंगकमी, फिल्म अभिनेता और निर्देशक गिरीश कर्नाड अपने बचपन में नाडिया के इतने दीवाने थे कि अपने दोस्तों के साथ स्कूल से भागकर उनकी फिल्म देखने जाया करते थे। जबकि पिता द्वारा उन्हें इसके लिए पैसे आसानी से मिल जाया करते थे। नाडिया से जुड़ी कुछ खास बातें जानने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए..

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.