अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:42 pm
कविता का अंश... किसी की हार तो किसी की जीत लिखूँगा, आज फिर किसी के लिए मैं गीत लिखूँगा। चाहत को तमन्ना का शब्दों को बातों का, ख़्वाबों को नींदों का सितारों को रातों का, अमीर को तक़दीर का गहरा मीत लिखूँगा, आज फिर किसी के लिए मैं गीत लिखूँगा। भँवरों की फूलों से ठंडी हवा की झूलों से, शाख़ों की शूलों से और यादों की भूलों से, निठल्लों की फ़िज़ूलों से बातचीत लिखूँगा, आज फिर किसी के लिए मैं गीत लिखूँगा। मौजों और धारों की बूँदों और बौछारों की, मस्ती से बेकारों की घोड़ों और सवारों की, ग़रीबी से लाचारों की पुरानी प्रीत लिखूँगा, आज फिर किसी के लिए मैं गीत लिखूँगा। शैम्पू से नहाने की व बाज़ार का खाने की, बनावटी शर्माने की तो सबको बहकाने की, बाप को आँख दिखाने की नई रीत लिखूँगा, आज फिर किसी के लिए मैं गीत लिखूँगा।

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.