अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:09 pm
देवमणि पांडेय साहित्य जगत की जानी-मानी हस्ती हैं। फ़िल्म ‘पिंजर’, ‘हासिल’ और ‘कहाँ हो तुम’ के अलावा कुछ सीरियलों में गीत रिकार्ड भी किए हैं। फ़िल्म 'पिंजर' के गीत चरखा चलाती माँ को वर्ष 2003 के लिए सर्वश्रेष्ठ गीत पुरस्कार प्राप्त हुआ था। यहाँ उनकी रचनाओँ को अपने ब्लॉग में स्थान देते हुए हम गर्व महसूस कर रहे हैं। कविता का अंश... लड़कियाँ अब और इंतज़ार नहीं करेंगी वे घर से निकल जाएँगी बेख़ौफ़ सड़कों पर दौड़ेंगी उछलेंगी, कूदेंगी, खेलेंगी, उड़ेंगी और मैदानों में गूँजेंगी उनकी आवाजें उनकी खिलखिलाहटें चूल्हा फूँकते, बर्तन माँजते और रोते-रोते थक चुकी हैं लड़कियाँ अब वे नहीं सहेंगी मार नहीं सुनेंगी किसी की झिड़की और फटकार । ऐसी ज्वलंत भावनाओं से सजी इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए और ऐसी ही एक और भावपूर्ण कविता सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए... सम्पर्कः देवमणि पांडेय Email : devmanipandey@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.