अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

2:03 pm
तोता एक ऐसा प्राणी है, जो बच्चो को बहुत पसंद है। वे उसके आगे-पीछे घूमकर मिट्ठू-मिट्ठू की रट लगाया करते हैं और वह भी उनका अनुकरण करते हुए मिट्ठू बोलना तो सीख ही जाता है। हरी और लाल मिर्च का प्रेमी तोता हर किसी को पल भर में ही अपना बना लेता है। तोते की चुलबुली शरारतों से भरी यह कविता आपको जरूरी पसंद आएगी। कविता का अंश… बातें किया करेगा मुझसे, यही सोचकर लाया तोता। कोई बात नहीं कर पाता, फिर भी सबको भाया तोता। टीवी देख-देखकर वह भी, हँसता कभी तो कभी है रोता। अगर सीरियल चलते रहते, वह भी रोज देर से सोता। जब क्रिकेट का मैच देखता, चौको-छक्कों पर खुश होता। लेकिन समाचार आते जब, तोता भी तो आपा खोता। सास-बहू के संवादों पर, खाता खूब हवा में गोता। गंगाराम कहो तो कहता, यह तो नाम पुराना होता। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.