अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

5:08 pm
काली सफेद धारियों वाला गधा - ज़ेब्रा लेख का अंश… ज़ेब्रा अफ्रीका के एक बहुत बड़े क्षेत्र में पाया जाने वाला वन्य जीव है। इसके शरीर पर विभिन्न आकारों वाली काली-सफेद धारियाँ होती हैं। ज़ेब्रा की अनेक जातियाँ हैं। इनमें तीन जातियाँ प्रमुख हैं - सामान्य वर्सेल्स ज़ेब्रा, चैपमैन ज़ेब्रा और ग्रेन्ट ज़ेब्रा। परिवार समूह में रहने वाला नर ज़ेब्रा 80 वर्ग किलोमीटर से लेकर 250 वर्ग किलोमीटर तक का एक सीमा क्षेत्र बनाता है। इस क्षेत्र में अन्य समूहों के ज़ेब्रा भी एक क्षेत्र में कई-कई वर्ष साथ रहते हैं। कभी-कभी तो कुछ ज़ेब्रा अपने सीमा क्षेत्र के भीतर परिवार समूह के सदस्यों के साथ अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर देते हैं किन्तु यह बात नर ज़ेब्रा पर लागू नहीं होती। ज़ेब्रा परिवार समूह में आपस में बड़ा लगाव होता है। यदि परिवार समूह का कोई ज़ेब्रा खो जाता है, तो वे उस खोए हुए ज़ेब्रा को कई-कई दिनों तक तलाश करते हैं। वे अपने परिवार समूह के सदस्यों को उनकी धारियों, पेटर्न और उनकी आवाज तथा गंध के माध्यम से पहचानते हैं। पहाड़ी ज़ेब्रा मैदानी ज़ेब्रा से अधिक जंगली होता है। यह प्राय: छह तक के परिवार समूह में रहता है। किंतु भोजन और पानी की अधिकता होने पर इसके समूह में सदस्यों की संख्या अधिक हो जाती है। पहाड़ी ज़ेब्रा पहाड़ी रास्तों पर तेजी से चल सकते हैं। पथरीली और सीधी खड़ी चढ़ाई वे आसानी से चढ़ जाते हैं। जबकि मैदानी ज़ेब्रा खड़ी चढ़ाई नहीं चढ़ पाते हैं। मैदानी और पहाड़ी ज़ेब्रा दोनों ही भोजन और पानी की कमी होने पर चारागाहों की खोज में प्रवास करते हैं। नदियों के सूख जाने पर नदियों की नीची और नम जमीन खोदकर पानी निकालते हैं। इस प्रकार ये अपने साथ ही अन्य जीवों के लिए भी उपयोगी होते हैं। ज़ेब्रा सिंह का प्रिय भोजन है। लकड़बग्धे भी इसका शिकार करते हैं। कृषि योग्य भूमि के विस्तर एवं जंगलों की कटाई के कारण तथा इसके स्वादिष्ट माँस को खाने के लालच के कारण ज़ेब्रों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इसकी कई जातियाँ विलुप्ति की कगार पर है। ज़ेब्रा से जुड़ी हुई ऐसी ही अन्य रोचक जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.