अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

11:22 am
कविता का अंश... देश था क्यूबा, शहर हवाना, शख्स का नाम था म्यूकी, जिसने पहला फोन बनाया, लगी जरूरत क्योंकि। म्यूकी की बीवी थी अपाहिज, चल-फिर न पाती थी। जिसकी चिंता हरदम, हरपल, म्यूकी को खाती थी। म्यूकी का जब फोन बना, वो बैठा था तलघर में। बीवी थी तीसरे माले पर, बात हुई पलभर में। म्यूकी का वो फोन कभी भी, आम नहीं हो पाया, सन् 1861 में फिर, फिलीप ने इसे बनाया। दो खाली टिन के डिब्बों के, बीच से डाली डोर। एक किनारे पर एक डिब्बा, दूजा दूसरी ओर। जो कुछ बोलो आगे बढ़ता, धागे के कम्पन से। ऐसा खेल खेलते आए, हम सभी बचपन से। धागा हटकर तार आ गए, विद्युत का सब खेल। स्वर लहरी को भेजा जिसने, वो था ग्राहम बेल। बेल ने सोचा, क्यों न अपनी बात को भेजा जाए, इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.