अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:04 pm
कविता का अंश... अमेरिका के सेंट लुई में, लगता था एक मेला, लोग खरीदी करने आते, लेकर पैसा धेला। भीषण गरमी के मौसम में, होती भीड़ अपार, आइसक्रीम से ठंडक पाते, होकर जन लाचार। चार्ल्स मेन्चेज़ बेचा करता, प्लेटों में आइसक्रीम, लोग चहककर खाते जैसे, हो पूरा कोई ड्रीम। सन् उन्नसी सौ चार मे, अगस्त माह की घटना, सेंट लुई यूँ तप रहा था, ज्यों गरमी में पटना। अल्ल सुबह से ही मेले में, जुट गई भीड़ अपार, आइसक्रीम खाने वालों की, लगने लगी कतार। मम्मी-पापा, दादा-दादी, थे बच्चों के साथ, चार्ल्स मेन्चेज़ चला रहा था, जल्दी-जल्दी हाथ। भाग्य में उसके लिखा हुआ था, एक अजूबा होना, प्लेटे सारी जूठी हो गई, मुश्किल उनका धोना। ग्राहक सर पर खड़े हुए थे, करते चीख-पुकार, कहीं और वे च ले गए तो, घाटे में व्यापार। इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.