अतीत के झरोखे से अपनी खबर अभिमत आज का सच आलेख उपलब्धि कथा कविता कहानी गजल ग़ज़ल गीत चिंतन जिंदगी तिलक हॊली मनाएँ दिव्य दृष्टि दीप पर्व दृष्टिकोण दोहे नाटक निबंध पर्यावरण प्रकृति प्रबंधन प्रेरक कथा प्रेरक कहानी प्रेरक प्रसंग फिल्‍म संसार फिल्‍मी गीत फीचर बच्चों का कोना बाल कहानी बाल कविता बाल कविताएँ बाल कहानी बालकविता मानवता यात्रा वृतांत यात्रा संस्मरण लघु कथा लघुकथा ललित निबंध लेख लोक कथा विज्ञान व्यंग्य व्‍यक्तित्‍व शब्द-यात्रा' श्रद्धांजलि सफलता का मार्ग साक्षात्कार सामयिक मुस्‍कान सिनेमा सियासत स्वास्थ्य हमारी भाषा हास्‍य व्‍यंग्‍य हिंदी दिवस विशेष हिंदी विशेष

12:22 pm
कविता का अंश… बादल आए, बादल आए साथ में अपने पानी लाए। चिंटू, मिंटू, बिट्टू झूमे, झम-झम, झम-झम ये बादल झूमते आए। चिंकी, मिंकी, पिंकी नाचे, झर-झर, झर-झर ये झरते जाए। ठंडी-ठंडी हवा भी साथ लाए, मन भीगा-भीगा बहता जाए। खुशियों का संदेशा साथ लाए, हम तुम, तुम हम गाते जाएँ। बादल भूरे, काले हैं, खूब बरसने वाले हैं। शहरों और पहाड़ों पर, सारे जंगल झाड़ों पर। छमक-छमक बरसातें होंगी, हरियाली की बातें होंगी। भूल जाओं कि रोज चाँद-सितारों की रातें होंगी। घटाएँ घनघोर होंगी, दुबके-सहमे हम होंगे और मेंढकों की टर्र-टर्र होंगी। लेकिन हमें बताओं तो, थोड़ा यह समझाओ तो, बादल आते कैसे हैँ? नील गगन में छाते कैसे हैं? संग अपने पानी लाते कैसे हैं? इस अधूरी कविता को पूरा सुनने के लिए ऑडियो की मदद लीजिए…

एक टिप्पणी भेजें

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.